हरदवानी के भानपुरपुरा में हुए हिंसक दंगे में घायल एक और व्यक्ति की मौत हो गई है। घटना के समय और अगले दिन पांच लोगों की मौत हो गई. सरकार ने अतिक्रमित भूमि पर एक अस्थायी चौकी भी स्थापित की। अब तक 36 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें 6 गैंगस्टर भी शामिल हैं. संवेदनशील इलाकों में कर्फ्यू छठे दिन भी जारी है.

जागलान रिपोर्टर हरद्वाणी। बंबोपुरा दंगे में घायल एक और व्यक्ति की मौत हो गई है. घटना के समय और अगले दिन पांच लोगों की मौत हो गई. सरकार ने अतिक्रमित भूमि पर एक अस्थायी चौकी भी स्थापित की। अब तक 36 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें 6 गैंगस्टर भी शामिल हैं. संवेदनशील इलाकों में कर्फ्यू छठे दिन भी जारी है.

8 फरवरी की शाम बनभूपुरा में सरकारी जमीन (नजूल) पर बने मदरसे और नमाज परिसर को तोड़ने पहुंची प्रशासन और पुलिस की टीम पर स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया था. दंगों के दौरान आगजनी, गोलीबारी और पेट्रोल बम हमले हुए. जवाब में पुलिस ने भी फायरिंग की. घटना में अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है.

अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए अभियान जारी है

मंगलवार को डॉ. सुशीला तिवारी राजकीय अस्पताल में भर्ती कराए गए 53 वर्षीय इरफान की भी मौत हो गई। इसी अस्पताल में दो अन्य घायलों को भी भर्ती किया गया। एसएसपी नैनीताल पीएन मीना के मुताबिक बदमाशों की धरपकड़ के लिए अभियान जारी है। सोमवार को छह और आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. इसके पास से दो पिस्तौल, छह राउंड गोला बारूद और दो खोखे भी बरामद किए गए। मुख्य साथी अब्दुल मलिक पकड़ से बाहर है।

वहीं 41 बंदूकधारियों ने अपने हथियार थाने में जमा कर रखे थे. एक एकड़ सरकारी भूमि पर एक अस्थायी पुलिस चौकी स्थापित की गई है, जिसे मलिक गार्डन के नाम से जाना जाता है। इस चौकी पर दो उपनिरीक्षक और चार सिपाही भी तैनात हैं।

जरूरी सामान तैयार है

12 फरवरी को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने यहां पुलिस थाना बनाने की घोषणा की थी. सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवान पुलिस के साथ संवेदनशील इलाकों में लगातार निगरानी बनाए हुए हैं। मंगलवार को भी प्रबंधन टीम ने कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में राशन, सिलेंडर, दूध, सब्जियां और अन्य दैनिक जरूरत की चीजें उपलब्ध करायीं.

यह भी पढ़ें: अफेयर के बाद सांसद के भाई ने शादी से किया इनकार, लोगों ने की पिटाई