झारखंड की राजनीति में बुधवार को बड़ा उलटफेर हुआ. सियासी रस्साकशी के बीच झारखंड के मुख्यमंत्री Hemant Soren को भूमि घोटाला मामले में घंटों पूछताछ के बाद ईडी ने गिरफ्तार कर लिया. साथ ही नए सीएम के नाम का भी ऐलान किया गया. पूर्व मुख्यमंत्री Hemant Soren की गिरफ्तारी बेहद नाटकीय घटनाक्रम के बाद हुई है।

डिजिटल डेस्क, रांची। झारखंड की राजनीति में बुधवार को बड़ा उलटफेर हुआ. सियासी रस्साकशी के बीच झारखंड के मुख्यमंत्री Hemant Soren को भूमि घोटाला मामले में घंटों पूछताछ के बाद ईडी ने गिरफ्तार कर लिया. साथ ही नए सीएम के नाम का भी ऐलान किया गया.

इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री Hemant Soren की गिरफ्तारी से पहले नाटकीय घटनाक्रम हुआ. ईडी के दसवें समन के बाद Hemant Soren अचानक गायब हो गए. इस बीच ईडी ने Hemant Soren के दिल्ली स्थित आवास और झारखंड भवन पर छापेमारी की.

Hemant Soren को लेकर बीजेपी-जेएमएम में ठन गई है

दूसरी ओर, जैसे ही Hemant Soren के अचानक गायब होने की खबर सुर्खियों में आई, झारखंड में मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी हमलावर हो गई. भारतीय जनता पार्टी के नेता और प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लापता व्यक्ति के बारे में एक पोस्ट भी साझा किया और उसका पता लगाने वालों को इनाम देने की घोषणा की।

बाबूलाल मरांडी का पोस्ट जब मीडिया में वायरल हुआ तो जेएमएम ने बीजेपी पर हमला बोल दिया. इसके बावजूद हेमंत सौरोन का कोई पता नहीं चल सका. हालांकि, जब झारखंड सरकार ने जोरदार कार्रवाई शुरू की और ईडी को पूछताछ के लिए तारीख जारी की, तो अगले दिन Hemant Soren रांची पहुंचे. इसके बाद बैठकों का दौर चला. इस दौरान झारखंड में राजनीतिक उठापटक लगातार तेज होती गयी.

इसी सिलसिले में अब हम झारखंड में Hemant Soren की गिरफ्तारी से लेकर सियासी घमासान की कहानी पर एक नजर डालेंगे.

ईडी ने दोबारा सुनवाई की मांग करते हुए कड़े शब्दों में पत्र लिखा

दरअसल, 20 जनवरी को ईडी ने उनसे जमीन घोटाले में करीब सात घंटे तक पूछताछ की थी. इस दौरान जांच एजेंसी की पूछताछ पूरी नहीं हो सकी. इसके बाद ईडी की टीम ने झारखंड के पूर्व मंत्री को पत्र लिखकर 27 जनवरी से 31 जनवरी के बीच तारीख और स्थान बताने का अनुरोध किया।

हालाँकि, उन्होंने ईडी को बताया कि वह इस समय व्यस्त हैं और बताया कि उन पर मार्च में मुकदमा चलाया जाएगा। इसके बाद ईडी ने एक बार फिर उन्हें कड़ा पत्र भेजकर समय और स्थान बताने को कहा, ऐसा न करने पर ईडी खुद फैसला लेगी।

ईडी के इस तीखे पत्र में Hemant Soren ने दिल्ली कूच किया. इसके बाद वह करीब 40 घंटे तक लापता रहे. ईडी की टीम ने उनके दिल्ली स्थित आवास और झारखंड भवन पर छापेमारी की. इस दौरान पूर्व मंत्री तो नहीं मिले, लेकिन 36 लाख रुपये, बीएमडब्ल्यू कारें और जमीन घोटाले से जुड़े दस्तावेज बरामद हुए।

हालांकि, शिक्षा मंत्रालय कार्रवाई कर रहा है, वहीं हेमंत सरकार ने जांच के लिए पत्र भेजा है और 31 जनवरी को जांच के लिए समय दिया है.

इसके बाद करीब 40 घंटे बाद 30 जनवरी की दोपहर मुख्यमंत्री Hemant Soren अचानक रांची पहुंचे. इस दौरान झामुमो और कांग्रेस के सभी विधायक रांची में ही रहे. आते ही उन्होंने विधायी युआन की बैठक बुलाई। इसके बाद, उस शाम एक और बैठक आयोजित की गई। इस दौरान झारखंड के राजनीतिक हलकों में कल्पना सोरेन को मुख्यमंत्री बनाये जाने को लेकर चर्चा तेज रही.

इस बीच शाम को हुई बैठक में सभी विधायकों ने सादे कागज पर अपने नाम के हस्ताक्षर किये. दूसरी ओर, जब Hemant Soren की पत्नी के मुख्यमंत्री बनने की चर्चा शुरू हुई तो उनकी भाभी सीता सोरेन के बयान से हड़कंप मच गया. इस दौरान उन्होंने कहा कि कल्पना सोरेन को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं किया गया है.

31 जनवरी की सुबह से ही राजनीतिक हलचल तेज है. दोपहर 1 बजे से Hemant Soren से पूछताछ शुरू हुई. सत्तारूढ़ गठबंधन के सभी विधायकों को इस दौरान रांची में ही रहने को कहा गया है. पूरे रांची में सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. सीएम आवास के पास धारा 144 लागू कर दी गई. छह घंटे की पूछताछ के बाद राजभवन से लेकर सीएम आवास तक हलचल तेज हो गयी. उधर, झामुमो के सभी सांसदों ने राज्यपाल से मिलने के लिए समय की मांग की.

इधर, विधायकों के राज्यपाल से मिलने पहुंचते ही Hemant Soren की गिरफ्तारी की चर्चा तेज हो गयी. राज्यपाल से मुलाकात के दौरान झारखंड के नये मुख्यमंत्री चंपई सोरेन के नाम की घोषणा की गयी. उधर, Hemant Soren ने अपना इस्तीफा सौंपने के लिए राजभवन से संपर्क किया. इस दौरान ईडी की टीम उनके साथ रही है. जैसे ही उन्होंने इस्तीफा दिया, शिक्षा ब्यूरो ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें: झारखंड पॉलिटिक्स: झारखंड की राजनीति में आगे क्या होगा? 5 प्वाइंट से समझें

यह भी पढ़ें: …पिछले दरवाजे से निकले Hemant Soren, सामने वाले दरवाजे से कौन बनेगा सीएम इस पर चर्चा जारी; पढ़ें पूरी टाइमलाइन