बंगाल और दिल्ली जीतने का ममता का दावा-Hindi News

Hindi News – कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बार विधानसभा चुनाव में जीत का दावा करते हुए कहा है कि उसके बाद वे दिल्ली जीतने निकलेंगी। उन्होंने एक बार फिर बाहरी और बंगाली का मुद्दा उठाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा और कहा कि […]

बंगाल और दिल्ली जीतने का ममता का दावा-Hindi News

Hindi News – कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बार विधानसभा चुनाव में जीत का दावा करते हुए कहा है कि उसके बाद वे दिल्ली जीतने निकलेंगी। उन्होंने एक बार फिर बाहरी और बंगाली का मुद्दा उठाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा और कहा कि बंगाल में यहीं के लोगों का शासन होगा। उन्होंने जोर देकर कहा कि बंगाल में गुजरात वालों का राज नहीं होगा।

पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरी बार सत्ता हासिल करने के लिए भाजपा से मुकाबला कर रहीं ममता बनर्जी खुद को रॉयल बंगाल टाइगर बताते हुए कहा कि बंगाल में किसी गुजरात वाले का राज नहीं होगा। अपनी चोट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा- मैं एक पैर से बंगाल और दो से दिल्ली जीतूंगी। ममता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उन्हें अजीब तरीके से दीदी कहा, इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। ऐसा वे रोज करते हैं।

गौरतलब है कि ममता बनर्जी 10 मार्च को चुनाव प्रचार के दौरान नंदीग्राम में घायल हो गई थीं। उन्होंने इसके लिए भाजपा समर्थकों को जिम्मेदार ठहराया था। ममता का कहना था कि उन्हें चुनाव में प्रचार से रोकने के लिए उन पर हमला किया गया। हालांकि बाद में चुनाव आयोग ने कहा था कि यह एक हादसा था न कि हमला। बहरहाल, पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दो चरण के मतदान हो चुके हैं। मंगलवार को तीसरे चरण की वोटिंग होनी है।

ममता बनर्जी ने चौथे चरण के मतदान वाले इलाके में प्रचार करते हुए छत्तीसगढ़ में शनिवार को हुए नक्सली हमले के लिए ममता ने केंद्र सरकार की आलोचना की। इस हमले में 24 जवान शहीद हो गए थे। ममता ने कहा कि देश को ठीक से चलाने के बजाय भाजपा का पूरा ध्यान बंगाल चुनाव पर है। इसलिए वह पूरे देश से अपने नेताओं को बंगाल में प्रचार के लिए ला रही है। ये नेता चुनाव में जीत के लिए राज्य में डेरा डाले हुए हैं। उन्होंने आठ चरण में चुनाव कराने पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या यह सही नहीं होता कि कोरोना को देखते हुए चुनाव कार्यक्रम छोटा रखा जाता। इसे जल्दी खत्म कर महामारी से निपटने पर ध्यान दिया जाता।
-Hindi News Content By Googled