Uttar Pradesh Covaccine गड़बड़ : मोबाइल पर व्यस्त एएनएम ने एक साथ दो खुराक दे दी, Corona Vaccine लगवाते वक्त आपके साथ ऐसा हों तो रोकें-Hindi News

Hindi News – कानपुर | कोरोना की दो वैक्सीन (Covid Vaccine) अलग—अलग दी जानी चाहिए और उसके लिए टाइम लिमिट भी सरकार ने बढ़ाई है, लेकिन यूपी की एक नर्स ने मोबाइल (Uttar Pradesh Kanpur ANM on Mobile during vaccination) पर बातें करते हुए एक ही मरीज को एक साथ दो वैक्सीन लगा दी। सोशल […]

Uttar Pradesh Covaccine गड़बड़ : मोबाइल पर व्यस्त एएनएम ने एक साथ दो खुराक दे दी, Corona Vaccine लगवाते वक्त आपके साथ ऐसा हों तो रोकें-Hindi News

Hindi News – कानपुर | कोरोना की दो वैक्सीन (Covid Vaccine) अलग—अलग दी जानी चाहिए और उसके लिए टाइम लिमिट भी सरकार ने बढ़ाई है, लेकिन यूपी की एक नर्स ने मोबाइल (Uttar Pradesh Kanpur ANM on Mobile during vaccination) पर बातें करते हुए एक ही मरीज को एक साथ दो वैक्सीन लगा दी। सोशल मीडिया पर हमेशा व्यस्त रहना एक मरीज के लिए जान का सबब बन गया है।

मामला कानपुर देहात जिले के अकबरपुर का है। वहां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में एक महिला को कोविड-19 वैक्सीन की देने वाली एएनएम फोन कॉल पर इतना व्यस्त थीं कि उसने एक साथ कोविड के टीके की दो खुराक दे दी। मामले की जांच शुरू की गई है। जांच अधिकारी कानपुर देहात के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. राजेश कटियार ने कहा, अब से हर वैक्सीनेटर को लोगों को कोविड टीका लगाने से पहले अपना मोबाइल फोन जमा करने के लिए कहा गया है। आप भी कोरोना टीका लगवाते वक्त यह सावधानी बरतें और यदि स्टाफ का ध्यान कहीं और है तो उसे सचेत होने के लिए कहें।

हुआ यूं कि मडौली गांव के निवासी 50 वर्षीय कमलेश कुमारी पत्नी विपिन अपना पहला टीका लगवाने के लिए अकबरपुर ब्लॉक के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गई थीं। एएनएम अर्चना, जो एक फोन कॉल पर व्यस्त थीं। उसने बिना जांचे—परखे एक साथ दो टीके लगा दिए और इस दौरान वह फोन ही पर बात करती रही। कमलेश के हाथ में सूजन आ गई लेकिन कोई अन्य गंभीर दुष्प्रभाव नहीं हुआ। परिजनों को खबर हुई तो उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया और एएनएम के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। जब परिजनों ने सवाल की कोशिश की तो अर्चना ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और धमकी दी।

कमलेश को तब पीएचसी के डॉ. राकेश कुमार द्वारा लगभग डेढ़ घंटे तक निगरानी के लिए रखा गया। उनके अनुसार उन्हें केवल उचित निगरानी के बाद जाने की अनुमति दी गई। उनमें कोई गंभीर लक्षण नहीं नजर आए।इस घटना के बाद स्वास्थ्य अधिकारी तुरंत हरकत में आए और महिला के परिजनों को मनाया। लापरवाही के बारे में जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को अवगत कराया गया। कानपुर देहात के जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि मामले को गंभीरता से लिया है ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।
-Hindi News Content By Googled