Tokyo Olympic : इंटरनेशनल वूमेन रेसलर गीता फोगाट ने कहा, भारतीय महिला खिलाड़ी ओलम्पिक में धमाका करने के लिए तैयार-Hindi News

Hindi News – Varanasi । भारत की इंटरनेशनल वूमेन रेसलर गीता फोगाट (Geeta Phogat) ने कहा कि भारत की महिला खिलाड़ी इस बार के टोक्यो ओलम्पिक (Tokyo Olympic) में बड़ा धमाका करने के लिए तैयार हैं। भारत की महिला ओलम्पिक खिलाड़ियों साक्षी मालिक (Sakshi Malik) और पीवी सिंधू (PV Sindhu) ने पिछले ओलम्पिक (Olympic) में […]

Tokyo Olympic : इंटरनेशनल वूमेन रेसलर गीता फोगाट ने कहा, भारतीय महिला खिलाड़ी ओलम्पिक में धमाका करने के लिए तैयार-Hindi News

Hindi News – Varanasi । भारत की इंटरनेशनल वूमेन रेसलर गीता फोगाट (Geeta Phogat) ने कहा कि भारत की महिला खिलाड़ी इस बार के टोक्यो ओलम्पिक (Tokyo Olympic) में बड़ा धमाका करने के लिए तैयार हैं। भारत की महिला ओलम्पिक खिलाड़ियों साक्षी मालिक (Sakshi Malik) और पीवी सिंधू (PV Sindhu) ने पिछले ओलम्पिक (Olympic) में मेडल प्राप्त किए थे।

गीता फोगाट (Geeta Phogat) वाराणसी से संचालित तेजस्वनी स्ट्रांग वूमेन क्लब (Tejaswani Strong Women’s Club) के पहले स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर में पहुंची थी। इस दौरान उन्होंने पढ़ाई के साथ ही साथ खेल को भी आवश्यक बताया और कहा कि दोनों ज़रूरी है पर हम 100 परसेंट किसी एक चीज़ में ही दे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :-IPL 2021 : हैदराबाद क्रिकेट संघ आईपीएल के 14वे सीज़न की मेजबानी का लिए तैयार

गीता फोगाट ने कहा कि महिला सशक्तिकरण और महिलाओं को खेल की दुनिया में आगे लाने के लिए मेरी योजना है, मै जल्द ही एक रेसलेनिग एकेडमी (Racelenig Academy) महिलाओं के लिए खोलने वाली हूं। उत्तर प्रदेश की अगर बात करें तो यहां की सरकार अपने खिलाड़ियों की जितनी हो सके उतनी मदद कर सके। यहां प्रतिभाओं की कमी नहीं है।

 

उत्तर प्रदेश में महिला खिलाड़ियों की कमी पर उन्होंने कहा कि ऐसा आप नहीं कह सकते। मेरी काफी सीनियर और इण्टरनेशनल रेसलर और अर्जुन अवार्डी अलका तोमर (Alka Tomar) मेरठ की निवासी हैं और इसके अलावा बनारस की सिंह सिस्टर्स को कौन नहीं जानता। इन्होने अपनी मेहनत और लगन से सफलता के मुकाम को पाया है।

गीता फोगाट ने कहा कि हमें खेल के साथ-साथ पढ़ाई भी करना चाहिए पर यदि आप की रूचि खेल में हैं तो खेल ज़रूर खेलें। उन्होंने यह भी कहा कि दोनों में से किसी एक चीज़ में व्यक्ति परफेक्ट हो सकता है। यदि खेल में परफेक्ट होना है तो पढ़ाई में परफेक्शन नहीं आ सकता। आप दोनों जगह परफेक्ट नहीं हो सकते पर उन्होंने ज़ोर देते हुए कहा कि पढ़ाई ज़रूरी है।

इसे भी पढ़ें :-Samsung ने भारत में लॉन्च किया गैलेक्सी एफ 12 और एफ02, जानें क्या है फीचर्स और कीमत

सफलता के पीछे उन्होंने अपने माता-पिता का सम्पूर्ण योगदान बताया। उन्होंने कहा कि पिता ही हमारे कोच थे और उनसे ही हमने सारे दांव-पेच सीखे हैं। उन्होंने कभी ये नहीं सोचना कि लोग क्या सोचेंगे, ज़माना क्या सोचेगा। उन्होंने हमें खुली छूट दी और आज हम इस मुकाम पर हैं। किसी भी खिलाड़ी की सफलता के पीछे उसकी माता का बड़ा योगदान होता है।

इसे भी पढ़ें :-UP government बच्चों की यूनिफॉर्म, बैग के लिए बैंक खाते में ट्रांसफर करेगी पैसा, जानें कितने रुपए मिलेंगे
-Hindi News Content By Googled