सोशल मीडिया में मोदी समर्थक हैरान-परेशान-Hindi News

Hindi News – (image) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर सोशल मीडिया के भक्त लंगूरों को हैरान-परेशान कर दिया। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह को संबोधित किया। कोरोन वायरस की बाध्यता नहीं होती है तो संभव है प्रधानमंत्री इस प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने अलीगढ़ जाते। […]

सोशल मीडिया में मोदी समर्थक हैरान-परेशान-Hindi News

Hindi News –

(image) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर सोशल मीडिया के भक्त लंगूरों को हैरान-परेशान कर दिया। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह को संबोधित किया। कोरोन वायरस की बाध्यता नहीं होती है तो संभव है प्रधानमंत्री इस प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने अलीगढ़ जाते। कोरोना के कारण उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए समारोह को संबोधित किया। सबसे पहले तो सोशल मीडिया में उनके अनेक समर्थक इस बात से परेशान थे कि प्रधानमंत्री ने एएमयू के कार्यक्रम को संबोधित करने का न्योता क्यों स्वीकार किया।

प्रधानमंत्री के भाषण के बाद उनकी हैरानी और बढ़ गई, जब प्रधानमंत्री ने कह दिया कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ‘मिनी इंडिया’ है। उन्होंने आगे मिनी इंडिया की व्याख्या करते हुए यह भी कहा कि एएमयू में कुरान भी है और गीता भी है। सोचें, अब तक सोशल मीडिया में भक्त लंगूर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को मिनी पाकिस्तान कहते रहे थे। अब प्रधानमंत्री ने खुद उसे मिनी इंडिया कह दिया है। सो, एकदम सन्नाटा हो गया है। हालांकि प्रधानमंत्री ने सार्वजनिक रूप से कुछ कह दिया तो वह इस बात की गारंटी नहीं होती है कि समर्थकों को उसका पालन करना ही है।

इससे पहले सबने देखा कि कैसे प्रधानमंत्री ने गौरक्षा के नाम पर अल्पसंख्यकों के ऊपर हुए हमलों को लेकर कहा था कि गौरक्षा के नाम पर इस तरह के काम कर रहे लोग आपराधिक तत्व है। लेकिन इसके बाद क्या हुआ? इसके बाद भी गौरक्षा के नाम पर लोगों को जान से मारने वालों का सम्मान किया जाता रहा। उनकी सरकार के एक मंत्री ने ही गौरक्षा के नाम पर हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुए आरोपियों के जमानत पर छूटने के बाद उनको माला पहना कर उनका स्वागत किया था। लेकिन जब प्रधानमंत्री ने कथित गौरक्षकों को आपराधिक तत्व बताया था तब भी उनके समर्थक हैरान-परेशान हुए थे।

इसी तरह पिछले दिनों जब हिंदी फिल्मों के अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी की तो बॉलीवुड के कई नामी-गिरामी निर्माता-निर्देशकों, अभिनेताओं के खिलाफ मुहिम चली। मोदी की परम भक्त अभिनेत्री कंगना रनौत ने करण जौहर के खिलाफ सबसे जहरीला अभियान छेड़ा। दूसरे भक्त अर्णब गोस्वामी ने करण जौहर की जम कर लानत-मलानत की। इन सबको हैरान करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने न सिर्फ अपने जन्मदिन पर करण जौहर की बधाई का जवाब दिया, बल्कि लिखा कि ‘सिनेमा के प्रति आपका जुनून आदर के लायक है’। करण जौहर थोड़े से गिने-चुने लोगों में से थे, जिनके ट्विट का प्रधानमंत्री मोदी ने जवाब दिया। उसके बाद से करण के खिलाफ अभियान धीमा पड़ गया और अब उन्होंने आजादी के 75 साल के मौके पर देशभक्ति वाला एक बड़ा सीरिज बनाने का ऐलान किया है। इस तरह से प्रधानमंत्री अपने समर्थकों को हैरान-परेशान करते रहते हैं।

var aax_size=”728×90″; var aax_pubname = “nayaindia-21″; var aax_src=”302”; -Hindi News Content By Googled