कश्मीर की पार्टियां को आई सद्बुद्धि! Hindi News Jago Bhart

Jago Bhart Hindi News – (image) जम्मू कश्मीर की राजनीतिक पार्टियों को सद्बुद्धि आ गई है। पीपुल्स एलायंस फॉर गुपकर डिक्लरेशन यानी पीएजीडी बनाने वाली पार्टियों ने ऐलान किया है कि वे डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट कौंसिल यानी डीडीसी के चुनाव में हिस्सा लेंगी। पार्टियों ने पहले डीडीसी के चुनावों का विरोध किया था। नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी […]

कश्मीर की पार्टियां को आई सद्बुद्धि! Hindi News Jago Bhart

Jago Bhart Hindi News –

(image) जम्मू कश्मीर की राजनीतिक पार्टियों को सद्बुद्धि आ गई है। पीपुल्स एलायंस फॉर गुपकर डिक्लरेशन यानी पीएजीडी बनाने वाली पार्टियों ने ऐलान किया है कि वे डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट कौंसिल यानी डीडीसी के चुनाव में हिस्सा लेंगी। पार्टियों ने पहले डीडीसी के चुनावों का विरोध किया था। नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस के साथ साथ आधा दर्जन पार्टियों ने डीडीसी के चुनाव को राज्य का पूरा प्रशासनिक ढांचा बदलने का प्रयास बताया था और कहा था कि इससे विधायकों की अहमियत खत्म हो जाएगी और जिला प्रशासन के हाथ में सब कुछ चला जाएगा। यानी चुने हुए प्रतिनिधि सिर्फ दिखावे के लिए रह जाएंगे।

इस बीच पीडीपी की नेता महबूबा मुफ्ती ने ऐलान कर दिया कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि जब तक जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा बहाल नहीं होता है तब तक वे चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने यह भी कह दिया था कि जब तक कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता है तब तक वे तिरंगा नहीं उठाएंगी। इसके बाद लग रहा था कि शायद पीडीपी चुनाव नहीं लड़े। पर अब उसकी राय बदल गई है। जानकार सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की वजह से पीडीपी को अपना इरादा बदलना पड़ा है। कांग्रेस ने साफ कर दिया था कि उसे चुनाव लड़ने में कोई दिक्कत नहीं है। कांग्रेस के इस रुख के कारण एलायंस की सभी सात पार्टियों ने एक साथ चुनाव लड़ने का फैसला किया। यहां तक कि नेशनल पैंथर्स पार्टी के नेता भीम सिंह भी इस एलायंस की बैठक में शामिल हुए।

var aax_size=”728×90″; var aax_pubname = “nayaindia-21″; var aax_src=”302”; -Jago Bhart Hindi News