महामारी बद से बदतर-Hindi News

Hindi News – नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने माना है कि देश में कोरोना वायरस की महामारी की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। केंद्र सरकार ने इस बात पर गहरी चिंता जताई है और राज्यों से कहा है कि वे अपने यहां वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए जरूरी कदम […]

महामारी बद से बदतर-Hindi News

Hindi News – नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने माना है कि देश में कोरोना वायरस की महामारी की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। केंद्र सरकार ने इस बात पर गहरी चिंता जताई है और राज्यों से कहा है कि वे अपने यहां वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए जरूरी कदम उठाएं। केंद्र ने राज्यों से आरटी-पीसीआर टेस्ट बढ़ाने और कांटैक्ट ट्रेसिंग करने को कहा है। साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए भी कहा गया है।

केंद्र सरकार ने देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र सहित आठ राज्यों में कोरोना के हालात को लेकर बड़ी चिंता जताई है। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और दिल्ली में कोरोना के हालात चिंताजनक हैं। पूरे देश में मिलने वाले कोरोना के नए केसेज में इन आठ राज्यों का हिस्सा 80 फीसदी से ज्यादा है। इन राज्यों में बढ़ते केसेज की वजह से देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक करोड़ 20 लाख का आंकड़ा पार कर गई है। केंद्र सरकार वायरस के विदेशी स्ट्रेन को लेकर भी चिंता में है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को बताया कि अब तक भारत में ब्रिटेन वाले वैरिएंट के 807, दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट के 47 और ब्राजील वाले वैरिएंट का एक केस मिला है। उन्होंने यह भी बताया कि देश भर में अब तक 10 जिलों में एक्टिव केसेज सबसे ज्यादा हैं। इनमें पुणे, मुंबई, नागपुर, ठाणे, नासिक, औरंगाबाद, बेंगलुरु, नांदेड़, दिल्ली और अहमदनगर शामिल हैं। राजेश भूषण ने कहा कि साप्ताहिक संक्रमण दर के मामले में देश का आंकड़ा अब भी छह फीसदी से कम है।

साप्ताहिक संक्रमण दर देश में 5.65 फीसदी है। लेकिन महाराष्ट्र का औसत 23 और पंजाब का 8.82 फीसदी है। छत्तीसगढ़ का आठ फीसदी, मध्य प्रदेश का 7.82 फीसदी, तमिलनाडु का 2.50 फीसदी, कर्नाटक का 2.45 फीसदी, गुजरात का 2.2 और दिल्ली का 2.04 फीसदी है। राजेश भूषण ने बताया कि अधिकांश राज्यों में आइसोलेशन ठीक से नहीं हो रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि लोगों को घर पर ही आइसोलेट या क्वरैंटाइन होने को कह तो दिया जाता है, लेकिन उसकी निगरानी ठीक से नहीं हो रही है। वहीं नीति आयोग के डॉ. वीके पॉल ने कहा- हम इन राज्यों से बातचीत कर रहे हैं। उन्हें आरटी-पीसीआर टेस्ट बढ़ाने को कहा गया है। साथ ही घनी आबादी वाले क्षेत्रों में स्क्रीनिंग के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट को बढ़ाने का निर्देश दिया है।

50 हजार से ज्यादा संक्रमित

कोरोना वायरस की दूसरी लहर शुरू होने के बाद पिछले करीब एक महीने में पहली बार लगातार दो दिन कोरोना वायरस के नए केसेज में कमी आई है। रविवार को 68 हजार के नए पीक पर पहुंचने के बाद सोमवार और मंगलवार को लगातार दो दिन नए संक्रमितों की संख्या में कमी आई। वजह शायद होली की छुट्टी से टेस्ट कम होने का संभव है। सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र से लेकर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली तक में मंगलवार को कोरोना के नए केसेज में बड़ी गिरावट देखने को मिली। मंगलवार को हुई बड़ी गिरावट हैरान करने वाली है। एक दिन पहले सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 19 सौ से ज्यादा नए केस मिले थे, जबकि मंगलवार को 992 नए केस मिले।

बहरहाल, सोमवार को पूरे देश में 56 हजार से कुछ ज्यादा केस मिले थे लेकिन मंगलवार को यह संख्या उससे कम रही। मंगलवार को देर रात तक 50 हजार के करीब नए केसेज मिले थे, जबकि 40 हजार से ज्यादा लोग इलाज से ठीक हुए थे। हालांकि संक्रमितों की संख्या भले कम रही पर मरने वालों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। मंगलवार को भी पूरे देश में तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत हुई। हाल के दिनों में दो दिन मरने वालों का आंकड़ा तीन सौ के पार गया।

देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में मंगलवार को 27,918 नए संक्रमित मिले। दो दिन पहले ही यह आंकड़ा 40 हजार तक पहुंच गया था, जिसके बाद राज्य में लॉकडाउन लगाने पर विचार किया जा रहा था। बहरहाल, महाराष्ट्र में 23,820 लोग इलाज से ठीक हुए और 139 लोगों की मौत हुई। महाराष्ट्र में एक्टिव केसेज की संख्या तीन लाख 40 हजार 542 हो गई। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार को 992 केसेज मिले और 1,591 लोग इलाज से ठीक हुए।

दक्षिण के राज्यों में कोरोना के केसेज बढ़ने का सिलसिला जारी है। तमिलनाडु में मंगलवार को 2,342 नए मामले आए और 1,463 लोग इलाज से ठीक हुए। केरल में 2,389 नए संक्रमित मिले, जबकि 1,946 लोग इलाज से ठीक हुए। कर्नाटक में 2,975 नए मरीज मिले, जबकि 1,262 लोग इलाज से ठीक हुए। मंगलवार को गुजरात में 2,220 नए मामले आए और 1,988 लोग इलाज से ठीक हुए। पंजाब में 2,188 नए मरीज मिले और 2,536 लोग इलाज से ठीक हुए। हरियाणा में 980 नए मरीज मिले।
-Hindi News Content By Googled