रिकवरी से दोगुने नए केस!-Hindi News

Hindi News – नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर धीरे धीरे खतरनाक होती जा रही है। अब हर दिन रिकवरी से दोगुने नए केसेज मिल रहे हैं। पिछले एक हफ्ते से हर दिन औसतन 50 हजार से ज्यादा एक्टिव केस बढ़ रहे हैं, जिससे देश के कम से कम 10 राज्यों में अस्पतालों में […]

रिकवरी से दोगुने नए केस!-Hindi News

Hindi News – नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर धीरे धीरे खतरनाक होती जा रही है। अब हर दिन रिकवरी से दोगुने नए केसेज मिल रहे हैं। पिछले एक हफ्ते से हर दिन औसतन 50 हजार से ज्यादा एक्टिव केस बढ़ रहे हैं, जिससे देश के कम से कम 10 राज्यों में अस्पतालों में बेड्स की कमी पड़ गई है। गुजरात से लेकर महाराष्ट्र और पंजाब से लेकर कर्नाटक तक अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। कई राज्यों में कोरोना के एक्टिव केसेज के मुकाबले नए केसेज की संख्या तीन गुनी हो गई है। गुरुवार को देश में रिकार्ड संख्या में 60 हजार एक्टिव केस बढ़े, जिसके बाद देश में एक्टिव केसेज की संख्या बढ़ कर नौ लाख 65 हजार के करीब पहुंच गई। कोरोना की पहली लहर के पीक समय में एक्टिव केसेज की संख्या 10 लाख पहुंची थी। इसी रफ्तार से कोरोना के केसेज बढ़ते रहे तो शुक्रवार को एक्टिव केसेज का नया पीक आ जाएगा।

गुरुवार को देर रात तक देश भर में एक लाख 19 हजार 42 नए मरीज मिले थे, जबकि 59,910 लोग इलाज से ठीक हुए थे। देर रात तक छत्तीसगढ़ का आंकड़ा अपडेट नहीं हुआ था, जहां एक दिन पहले 10 हजार नए केस मिले थे। इसके अलावा असम, झारखंड आदि का भी आंकड़ा अपडेट नहीं हुआ था। इनके आंकड़े आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या नया रिकार्ड बना सकती है। गुरुवार को पूरे देश में सात सौ मरीजों की मौत हुई। इस साल का यह सबसे बड़ा आंकड़ा है।

कोरोना वायरस से सर्वाधिक संक्रमित राज्य महाराष्ट्र में गुरुवार को 24 घंटे में कोरोना वायरस के 56 हजार से ज्यादा नए केसेज आए हैं। राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 32 लाख का आंकड़ा पार कर गई है। गुरुवार को महाराष्ट्र में 376 लोगों की मौत हुई। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गुरुवार को 7,437 नए केस मिले। यह इस साल का नया रिकार्ड है। राज्य में 24 लोगों की मौत हुई और एक्टिव केसेज की संख्या 23 हजार से ज्यादा हो गई है। दिल्ली में इस बार लगातार कई दिन से रिकवरी से दोगुने नए मरीज मिल रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 24 घंटे में 8,474 नए मामले आए और सिर्फ 1,024 लोग इलाज से ठीक हुए। यानी ठीक लोगों के मुकाबले आठ गुना नए मरीज मिले। राज्य में 39 लोगों की मौत हुई। केरल में भी एक बार फिर मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। राज्य में गुरुवार को 4,353 नए मरीज मिले, जबकि सिर्फ 2,205 लोग इलाज से ठीक हुए। वहां भी ठीक होने वाले से दोगुने से ज्यादा नए मरीज मिले।

गुजरात में गुरुवार को 4,021 नए केस आए और 2,197 लोग इलाज से ठीक हुए। राज्य में गुरुवार को 35 लोगों की मौत हुई। पंजाब में गुरुवार को 3,119 नए मामले आए और 56 लोगों की मौत हुई। राज्य में एक्टिव केस 26,389 हो गए हैं। मध्य प्रदेश में गुरुवार को 4,324 नए संक्रमित मिले और 2,296 लोग इलाज से ठीक हुए। राज्य में एक्टिव केसेज की संख्या बढ़ कर 28,060 हो गई।

दक्षिण के राज्यों में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने का सिलसिला जारी है। गुरुवार को आंध्र प्रदेश में 2,558 नए केसेज आए, जबकि सिर्फ 915 लोग इलाज से ठीक हुए। कर्नाटक में गुरुवार को 6,570 नए केस मिले, जबकि सिर्फ 2,393 लोग इलाज से ठीक हुए। तमिलनाडु में 4,276 मरीज आए और 1,896 मरीज इलाज से ठीक हुए।

वैक्सीन पर महाराष्ट्र व केंद्र में तकरार

देश में कोरोना वायरस के सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में वैक्सीन की डोज खत्म हो रही है। राज्य में अनेक निजी सेंटर पर वैक्सीन की डोज खत्म हो गई है और इसलिए वैक्सीनेशन रोक देनी पड़ी है। इसे लेकर एक बार फिर केंद्र और राज्य सरकार के बीच तकरार तेज हो गई है। राज्य  सरकार के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि बाकी राज्यों के मुकाबले महाराष्ट्र में कम वैक्सीन भेजी जा रही है। उन्होंने पहले भी यह आरोप लगाया था तब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा था कि केंद्र ने पर्याप्त वैक्सीन भेजी है।

बहरहाल, महाराष्ट्र में बिगड़ते हालात को देखते हुए केंद्र सरकार ने 30 विशेषज्ञ मेडिकल टीमें अलग-अलग जिलों में भेजी हैं। कोरोना विशेषज्ञों की ये टीमें राज्य में कोविड-19 से जूझ रहे अधिकारियों को कोरोना पर काबू के लिए रणनीति बनाने में मदद करेंगे। इस बीच राज्य में वैक्सीन डोज खत्म होने की कगार पर हैं। मुंबई में 72 में से 26 निजी वैक्सीनेशन सेंटर पर टीकाकरण रोक दिया गया है। मुंबई के अलावा भी कई जगहों पर गुरुवार को टीका नहीं लगाया गया।

राज्य सरकार के मुताबिक अब महाराष्ट्र में केवल एक से दो दिन के ही डोज बचे हैं। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को कहा- कुछ देर पहले मेरे पास व्हाट्सऐप पर एक मैसेज भेजा गया है, इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार हमें सिर्फ साढ़े सात लाख वैक्सीन के डोज दे रही है। जबकि उत्तर प्रदेश को 48 लाख, मध्य प्रदेश को 40 लाख और अन्य राज्यों को भी लगभग इतनी ही डोज दी गई है। मेरा सवाल यह है कि महाराष्ट्र के साथ ऐसा भेदभाव क्यों किया जा रहा है? उन्होंने इस बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से भी बात की है।
-Hindi News Content By Googled