देशमुख की सीबीआई जांच होगी-Hindi News

Hindi News – मुंबई। बांबे हाई कोर्ट ने पिछली सुनवाई में जिस अंदाज में पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को फटकार लगाई थी और कहा था कि बिना एफआईआर हुए कैसे कोई मामला सीबीआई जांच को दे दिया जाए, उससे लगा था कि राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख को राहत मिल जाएगी। लेकिन […]

देशमुख की सीबीआई जांच होगी-Hindi News

Hindi News – मुंबई। बांबे हाई कोर्ट ने पिछली सुनवाई में जिस अंदाज में पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को फटकार लगाई थी और कहा था कि बिना एफआईआर हुए कैसे कोई मामला सीबीआई जांच को दे दिया जाए, उससे लगा था कि राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख को राहत मिल जाएगी। लेकिन सोमवार को हाई कोर्ट ने उनके मामले की प्रारंभिक जांच सीबीआई को सौंप दी, जिसके बाद अनिल देशमुख ने इस्तीफा दे दिया। साथ ही उन्होंने कहा है कि वे इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील करेंगे।

बांबे हाई कोर्ट वे सोमवार को सीबीआई को निर्देश दिया कि अनिल देशमुख पर मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोपों की प्रारंभिक जांच 15 दिन के भीतर पूरी की जाए। चीफ जस्टिस दीपांकर दत्ता और जस्टिस गिरीश कुलकर्णी की बेंच ने कहा कि यह असाधारण और अभूतपूर्व’ मामला है, जिसकी स्वतंत्र जांच होनी चाहिए। अदालत ने कहा कि चूंकि राज्य सरकार ने मामले में पहले ही उच्च स्तरीय समिति से जांच कराने के आदेश दे दिए हैं इसलिए सीबीआई को मामले में तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने की जरूरत नहीं है।

अदालत ने कहा कि सीबीआई को प्रारंभिक जांच 15 दिन के भीतर पूरी करनी होगी और फिर आगे की कार्रवाई पर फैसला लेना होगा। पीठ ने अपना फैसला कई जनहित याचिकाओं और रिट याचिकाओं पर दिया, जिनमें मामले की सीबीआई जांच और अलग-अलग कदम उठाने का अनुरोध किया गया था। इनमें से एक याचिका खुद परमबीर सिंह ने दायर की है जबकि दूसरी याचिका शहर की वकील जयश्री पाटिल और घनश्याम उपाध्याय और तीसरी स्थानीय शिक्षक मोहन भिडे ने दायर की थी।

हाई कोर्ट ने पिछले हफ्ते बुधवार को पूरे दिन इन याचिकाओं पर सुनवाई करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। अदालत ने सोमवार को कहा- हम इस बात पर सहमत हैं कि अदालत के सामने आया यह अभूतपूर्व मामला है, देशभुख गृह मंत्री हैं जो पुलिस का नेतृत्व करते हैं, स्वतंत्र जांच होनी चाहिए, लेकिन सीबीआई को तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने की जरूरत नहीं है। अदालत ने कहा कि प्रारंभिक जांच 15 दिन में पूरी हो और उसके बाद सीबीआई निदेशक फैसला करें। गौरतलब है कि परमबीर सिंह ने आरोप लगाया है कि अनिल देशमुख ने पुलिस अधिकारी सचिन वझे को हर महीने एक सौ करोड़ रुपए की वसूली करने को कहा है।

दिलीप पाटिल नए गृह मंत्री

पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के लगाए आरोपों पर बांबे हाई कोर्ट की ओर से आए फैसले के बाद अनिल देशमुख ने गृह मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से इसे मंजूर करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने उनका इस्तीफा मंजूर करते हुए राज्यपाल के पास भेज दिया। उनकी जगह शरद पवार के करीबी एनसीपी नेता दिलीप वलसे पाटिल को गृह मंत्री बनाया गया है।

इससे पहले हाई कोर्ट ने देशमुख पर लगे आरोपों की प्रारंभिक जांच सीबीआई से कराने की मंजूरी दी। उसके बाद उन्होंने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भेजा। फिर उद्धव से उनके घर जाकर मुलाकात भी की। इसके बाद देशमुख दिल्ली रवाना हो गए। उन्होंने कहा कि वे अपने खिलाफ जांच के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे।

बहरहाल, गृह मंत्री के इस्तीफे के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार और उप मुख्यमंत्री अजित पवार के बीच भी मुलाकात हुई। देशमुख ने छह लाइन के अपने इस्तीफे में लिखा- आज माननीय हाई कोर्ट की ओर से एडवोकेट जयश्री पाटिल की याचिका पर सीबीआई जांच का आदेश दिया गया है। इसलिए मैं नैतिकता के आधार पर गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देता हूं। मैं आपसे विनम्र निवेदन करता हूं कि मुझे गृह मंत्री के पद से मुक्त किया जाए।
-Hindi News Content By Googled