कोरोना वायरस के साथ एवियन फ्लू का प्रकोप, कई राज्‍यों में हो रही पक्षियों की मौत

Avian Influenza in india कोरोना वायरस महामारी के साथ अब देश के कई राज्य बर्ड फ्लू की चपेट में हैं। इस एवियन फ्लू के संक्रमण से हिमाचल प्रदेश राजस्‍थान केरल व मध्‍यप्रदेश में पक्षियों के मौत की खबर है। भोपाल, एएनआइ। कोरोना वायरस के साथ अब एक और वायरस के संक्रमण का प्रकोप देश में देखा […]

कोरोना वायरस के साथ एवियन फ्लू का प्रकोप, कई राज्‍यों में हो रही पक्षियों की मौत

Avian Influenza in india कोरोना वायरस महामारी के साथ अब देश के कई राज्य बर्ड फ्लू की चपेट में हैं। इस एवियन फ्लू के संक्रमण से हिमाचल प्रदेश राजस्‍थान केरल व मध्‍यप्रदेश में पक्षियों के मौत की खबर है।

भोपाल, एएनआइ। कोरोना वायरस के साथ अब एक और वायरस के संक्रमण का प्रकोप देश में देखा जा रहा है। राजस्‍थान, केरल समेत कई और राज्‍यों को एवियंस इंफ्लूएंजा ने अपने चंगुल में ले लिया है। इस संक्रमण के कारण अब तक कई पक्षियों की मौत हो चुकी है। हिमाचल के कई हिस्‍सों में इस संक्रमण के कारण  प्रवासी पक्षियों के मरने की पुष्‍टि की गई है।

मध्‍यप्रदेश (Madhya Pradesh) के एनिमल हस्‍बेंड्री डिपार्टमेंट के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर आरके रोकडे ने मंगलवार को बताया, ‘राज्‍य के 7-8 जिलों में वायरस संक्रमण के कारण अब तक करीब 400 कौओं (crows) की मौत हो चुकी है। पोल्‍ट्री (poultry) में वायरस नहीं पाया गया है, यह हवा में (airborne) है और इसके लिए वैक्‍सीन नहीं है। हमें लगता है कि यह राजस्‍थान (Rajasthan) से आया है।’   हिमाचल के कांगड़ा जिले में पोंग डैम झील में बर्ड फ्लू के कारण 2000 से अधिक प्रवासी पक्षियों की  मौत हो गई। इन पक्षियों में एवियन इंफ्लूएंजा यानी कि बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और केरल में बर्ड फ्लू के प्रकोप के मद्देनजर राज्य सरकारों ने अलर्ट जारी कर दिया है। इन राज्‍यों में अब तक बड़ी संख्‍या में पक्षियों की मौत हो चुकी है। वहीं बर्ड फ्लू के कारण बिहार, झारखंड, उत्तराखंड और कर्नाटक में भी सतर्कता बरती जा रही है। ऐसा भी कहा जा रहा है कि एवियन इंफ्लूएंजा वायरस का संक्रमण केवल पक्षियों नहीं बल्‍कि इंसानों के लिए भी घातक है।

देश के अलग-अलग राज्यों में मरे पक्षियों में H5N8 और H5N1 वायरस मिले हैं। कुछ जगहों पर कौव्वों में H5N8 वाले वायरस मिले हैं। ये वायरस काफी संक्रामक होते हैं। आमतौर पर यह वायरस पक्षियों में ही पाया जाता है।